रीवा

REWA HINDI SAMACHAR रीवा जिले के इन स्कूलों की मान्यता हुई निरस्त ,मचा हड़कंप,

रीवा जिले के इन स्कूलों की मान्यता हुई निरस्त ,मचा हड़कंप, देखिए कौन कौन सी स्कूल है शामिल

रीवा(Rewa News )। स्कूलों की मान्यता निरस्त होने के बाद संभाग भर में हड़कंप मच गया था। जेडी ने रीवा में करीब 70 और सतना के 80, सीधी से 11 और सिंगरौली की करीब 8 हाई और हायर सेकेण्डरी स्कूलों की मान्यता निरस्त कर दी थी।

अब स्कूल संचालको ने मान्यता पाने के लिए राजधानी की दौड़ लगाई है, इसके लिए उनके द्वारा आवेदन किए गए हैं।

मान्यता से जुड़ी फाइल जेडी रीवा से भोपाल तलब हो चुकी है।

REWA HINDI SAMACHAR जल्द ही सुनवाई होने की बात सामने आ रही है। करीब 130 स्कूल संचालकों ने अपील भोपाल में कर दी है। कइयों को अपील करना बाकी है।

जल्द ही सुनवाई होने की बात सामने आ रही है। करीब 130 स्कूल संचालकों ने अपील भोपाल में कर दी है। कइयों को अपील करना बाकी है।

जREWA HINDI SAMACHAR ल्द ही सुनवाई होने की बात सामने आ रही है। करीब 130 स्कूल संचालकों ने अपील भोपाल में कर दी है। कइयों को अपील करना बाकी है।

भोपाल आयुक्त कार्यालय से 15 फरवरी तक का अल्टीमेटम भी जारी हो गया है। 15 फरवरी तक जो आवेदन से चूका, वह मान्यता से भी हाथ धो बैठेगा।

ज्ञात हो कि संयुक्त संचालक लोक शिक्षण संचालनालय के पास हाई और हायर सेकेण्डरी स्कूल संचालकों ने मान्यता नवीनीकरण के लिए आवेदन किया था। आवेदन के साथ ही स्कूल संचालकों से मान्यता से संबंधित दस्तावेज मांगे गए थे।

REWA HINDI SAMACHAR रीवा सहित सतना, सीधी और सिंगरौली में संचालित स्कूलों के दस्तावेजों की जांच की गई। इसमें कई स्कूलें मापदंड में खरी नहीं उतरीं।

क्यों निरस्त की गई मान्यता

लोक शिक्षण संचालनालय के पास मान्यता नवीनीकरण के लिए हाई स्कूल और हायर सेकेण्ड्री विद्यालय के संचालकों द्वारा आवेदन दिया गया था। आवेदन के साथ विद्यालय संचालकों से मान्यता के लिए जरूरी दस्तावेज मांगे गए थे। जांच में पाया गया कि विंध्य के अधिकतर विद्यालय मान्यता पर खरे नहीं उतर रहे हैं। जिसे देखते हुए जेडी रीवा द्वारा संबंधित विद्यालयों की मान्यता निरस्त कर दी गई.

मान्यता निरस्त के बाद क्या है नियम

REWA HINDI SAMACHAR जेडी रीवा द्वारा मान्यता निरस्त करने के बाद संबंधित विद्यालय संचालक 15 फरवरी तक प्रथम अपील कर मान्यता बहाल करने संबंधी प्रयास कर सकते हैं। मान्यता नियम 2017 एवं संशोधन नियम 2020 के अनुसार अशासकीय संस्थाओं को प्रथम अपील करन करने के लिए पोर्टल को 15 फरवरी तक खोलने के लिए कहा गया है।

रीवा की यह स्कूलें शामिल…रीवा की करीब 230 फाइलें चेक हुईं।

इसमें से करीब 70 स्कूलों की मान्यता रिजेक्ट कर दी गई है।

इसमें विंध्य ज्योति स्कूल,

श्रीपीत पुष्पा हायर सेकेण्डरी स्कूल जेरूका,

मिस हिल पब्लिक स्कूल ढेकहा,

भारत माता पब्लिक स्कूल गंगेव,

सरस्वती विद्या मंदिर हनुमना रीवा,

जनता हायर सेकेण्डरी हाटा,

पूर्व माध्यमिक विद्यालय विवि परिसर रीवा,

गाध्ंाी ग्रामोदय हायर सेकेण्डी स्कूल सिरमौर,

बेलुरा नान गवर्नमेंट हाई स्कूल पिपरा नईगढ़ी रीवा,

आदर्श सरस्वती शिशु मंदिर मैदानी,

देवभूमि एकेडमी

बीएनपी मेमोरियल, शारदापुरम,

गौतम बुद्ध गल्र्स हायर सेकेण्डरी स्कूल मनगवां,

राधा मोहन हायर सेकेण्डरी ढेकहा,

कृष्णा हायर सेकेण्डरी स्कूल रीवा, ज्योति हाई स्कूल हटहा,

स्वप्रिल हाई स्कूल शांति विहार पडऱा,

डॉ राम मोहन लोहिया हायर सेकेण्डरी टिकुरी रीवा,

नृत्य राघव सरस्वती हायर सेकेण्डरी स्कूल पुष्पराज नगर रीवा,

न्यू कान्वेंट हाई स्कूल अजगरहा,

न्यू प्राइमर पब्लिक स्कूल एकलव्य प्रेसिडेंटल हाई स्कूल डभौरा रीवा,

सरस्वती ज्ञान मंदिर हायर सेकेण्डरी स्कूल देवतालाब,

रेवांचल पब्लिक स्कूल रीवा, स्वामी विवेकानंद हाई स्कूल पहिलपार कटरा,

विद्या भारती हायर सेकेण्डरी स्कूल बैकुंठपुर रीवा,

ज्ञान ज्योति हायर सेकेण्डरी अनंतपुर,

आदर्श शिशु विद्यालय मऊगंज,

नंदन किड्स हायर सेकेण्डरी अनंतपुर,

ज्ञान ज्योति इग्लिश हाई स्कूल सेमरिया,

महर्षि बाल्मीकि शिशु मंदिर नेहरू नगर,सरस्वती ज्ञान मंदिर,

एसपी मेमोरियल कान्वेंट एकेडमी रतहरी,

श्रवण कुमारी हायर सेकेण्डरी स्कूल नेहरू नगर,

गायत्री हाई स्कूल धौचट की मान्यता निरस्त कर दी गईं हंै।

12 दिन और समयसंचालक लोक शिक्षण मप्र शासन भोपाल ने एमपी ऑनलाइन को पत्र जारी किया है। पत्र में मान्यता नवीनीकरण वर्ष 2021-22 एवं 2022-23 एवं मान्यता नवीन 2022-23 के लिए 31 जनवरी प्रथम अपील करने के लिए नियत की गई थी।

मान्यता नियम 20217 एवं संशोधन नियम 2020 के अनुसार अशासकीय संस्थाओं को प्रथम अपील करने के लिए पोर्टल को 15 फरवरी तक खोलने के लिए कहा गया है।

ALSO Rewa Rojgar Mela : रीवा में आज लगेगा रोजगार मेला, 17000 तक वेतनमान

Leave a Reply

Related Articles

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please disable the adblocker. It is the only source of our earnings.