मध्यप्रदेश

Mp news:मध्यप्रदेश में कई योजनाओं पर लगी रोक, मोहन सरकार पर वित्तीय संकट

Mp news:मध्यप्रदेश में 38 विभाग को जारी किए गए आदेश

 

 

 

 

Mp news:मध्यप्रदेश में भाजपा ने प्रचंड जीत क दर्ज की. जिसके बाद नई सरकार का गठन हो गया है. भाजपा ने सबको चौकाते हुए मध्यप्रदेश में मोहन यादव को मुख्यमंत्री की कमान सौंप गई है. मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री की शपथ लेने के बाद मोहन यादव की सरकार को वित्तीय संकट का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में सरकार ने महाकाल परिसर विकास और तीर्थ दर्शन जैसी योजनाओं में व्यय करने पर रोक लगा दी गई है.

 

38 योजनाओं पर लगी रोक

वित्तीय संकट से जूझ रही मध्यप्रदेश सरकार ने बड़ा कदम उठाते हुए 38 विभाग की योजनाओं पर रोक लगाने का निर्देश जारी किया है. बता दें कि मध्यप्रदेश सरकार पर 3 लाख करोड़ से ज्यादा का कर्ज है. वितीय संकट को देखते हुए मध्य प्रदेश सरकार 15000 करोड़ का कर्ज ले सकती है.

 

राजस्व संग्रहण बढ़ाने का जोर

मध्यप्रदेश में वित्तीय संकट को देखते हुए नई सरकार ने मध्यप्रदेश सरकार के सभी विभागों को खर्चे पर कटौती करने का निर्देश दिया गया है. इसके साथ विभागों को राजस्व संग्रहण करने का निर्देश भी जारी किया गया है. इसके साथ ही विभागों को कहा गया है तय सीमा में राजस्व संग्रहण लक्ष्य को पूरा करना है. विभाग को राजस्व एकत्रित करने के नए सोर्स भी विकसित करने के लिए कहा गया है

 

इन कामों पर नहीं होगा खर्च

सरकार ने इन कामों पर खर्च करने के लिए रोक लगाई है जिसमें गृह विभाग के अंतर्गत थानों के डेवलपमेंट परिवहन विभाग की ग्रामीण क्रियान्वयन खेल विभाग खेलो इंडिया एमपी सहकारिता विभाग की ऋण समाधान योजना, लोक निर्माण विभाग स्कूल शिक्षा विभाग की निशुल्क पाठ सामग्री के प्रदाय प्रतिभाशाली विद्यार्थियों के लैपटॉप प्रदाय, एनसीसी विकास के लिए डेवलपमेंट, उच्च शिक्षा विभाग की योजना विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के लिए नए आईटी पार्क की स्थापना, ग्रामीण विकास विभाग की पीएम सड़क योजना में निर्मित सड़कों का नवीनीकरण, ग्रामीण विकास विभाग की आंगनबाड़ी भवनों का निर्माण,सहित बिना वितीय विभाग के बिना परमिशन के खर्च नहीं किया जाएगा.

REWA में अप्रेन्टिसशिप का आयोजन आज, चयनित युवाओं को मिलेगा 11 हजार रूपये प्रतिमाह

Leave a Reply

Related Articles

Close

Adblock Detected

Please disable the adblocker. It is the only source of our earnings.